Friday, June 22, 2018

भजन

   भजन

भक्त जन  की पुकार   है भजन .
जन-जन  के मानसिक
शान्ति प्रद है भजन.
संतोष प्रद  है भजन.
सरल तरीका ईश्वर अनुग्रह प्राप्ति का
 नाम भजन .
 विघ्नेश्वर नाम जपो ,
अगजग  की बाधाओं  से बचो .
शक्ति पाओ , ज्ञान पाओ .
सर्वत्र विद्यमान  है
ज्ञान विनायक  भगवान.
शक्ति गणपति , वल्लभ गणपति .
उच्चिष्ट गणपति उच्चपद  देंगे.
उमामहेश्वर  का ज्येष्ठ इष्ट पुत्र.
कनिष्ट पुत्र कार्तिकेय के नाम जप करो .
मुर्गा ही झंडा  कार्तिक का
नाम है मुरुगा  ,बोलो
ॐ मुरुगा ,ॐ मुरुगा ,
अगजग  में आनंद पाओ.
विश्वनाथ का नाम जपो ,
विश्व की रक्षा  पाओ.
भजो! भजो !
ॐ नमः शिवाय !
ॐ नमः शिवाय ,
शिवाय नमः.
शक्ति दायिनी , सिंह वाहिनी
महेश्वरी ,  दुर्गा देवि ,
भजो , भजो ,
ॐ दुर्गायै  नमः;
पाओ अपूर्व   शक्ति
अगजग में परमानंद पाओ.
सत्य बोलो , सत्यनारायण का भजन करो.
भजन में है  संतोष.
भजन में ही  ब्रह्मानंद .
भजन में ही  मनः शान्ति.
भजन में ही  ईश्वर मिलन.
भजन में ईश्वर साक्षात्कार.
जगद्गुरु नाम लो
जगत रक्षक नाम लो;
संताप से मुक्ति ,
संकट से मुक्ति,
संसार सागर  करने
जपो जपो इष्ट देव के नाम लेकर
जपो , जपो ,  सानंद रहो.



Monday, June 18, 2018

स्वर्ग -नरक

இறுதிசடங்கின் போது தாயின் சவப்பெட்டி விழுந்து நசுக்கியதில் மகன் மரணம்

अश्रु! कितने प्रकार के भाव उत्पन्न करते हैं?
दया? क्रोध? नफरत? आनंद?
वात्सल्य?शोक? करुणा?
गर्व? कायरता?
न जाने अश्रु क्या क्या करता हैं?
रोते हैं स्वार्थ सिद्ध के लिए.
रोते हैं दया प्राप्त करने.
रोते हैं शोक प्रकट करने?
रोते हैं आनंद के लिए.
रोते हैं गलतीछिपाने के लिए.
रोते हैं बचने केलिए.
रोते है बच्चेभूख मिटाने केलिए,
हठ में रोने वाले,हटाने रोनेवाले
दिखावे केलिए रोनेवाले
रोना दुर्बलता है, कायरता है.
धूलआँखों में पड़े अश्रु की बूँदें टपकती है.
अश्रु! साधक है, रोडक है, रक्षक हैं.
अतः स्त्रियाँ अधिक रोती है.
एक फिल्मी गाना----बादल रोतेहैं, मैं भीरोताहूँ.
सोचा--काले बदल रोते हैं,
दुःख के काले बादल रुलाते हैं.
*****************************************
स्वर्ग -नरक
_____________________
कहते हैं अच्छे -बुरे ,पाप -पुण्य के कर्म -फल के अनुसार ,
मृत्यु के बाद स्वर्ग या नरक मिलेगा. सही है ?
समाज के व्यवाहर देखने लगा तो आँखें खुली.
कर्म -फल तो ऊपर नहीं ,इसी धरती पर ही .
वह पूर्व जन कर्म फल हो या इस जन्म का पता नहीं,
पहली श्रेणी का स्नातक प्रमाण पात्र पाकर
लौटने ही वाला था तो अचानक दुर्घटना में चल बसा ,
वह तो चल बसा , उसके माता -पिता यही तड़पने लगे.यह नरक वेदना यहीं इकलौता बेटा अल्प आयु में ,
सोचो कर्म फल की वेदना ऊपर नहीं , धरती पर;
बुढापा जितना अभिशाप ,वेदना तो नरक तुलय.
मन तो चाहता है मैं कर सकता हूँ सब कुछ ,
बेटे -बहु ,पोते -पोती से मिलजुलकर नाचने -कूदने की चाह,
पर आँखें धुंधली ,कान सुनता नहीं ,नाक खो गयी सूँघने की शक्ति .
खाना बचती नहीं ,पाखाना नियत्रित नहीं ,
सब कहते बदबू ,पर बुढापा समझती नहीं ;
शरीर में झुर्रियां पद गयी, सर तो हिलती रहती.
तेज़ चलने की चाह मन में उठती ,पर दो कदम चलना मुश्किल.
सब मिलकर खाते बूढ़े को अलग दूर.
सब यही चाहते चल बस्ते तो झंझट से झूठ.
ऐसे भी कुछ बूढ़े वृद्धाश्रम में ,वह भी दो तरह के.
गरीबों के लिए वृद्ध अनाथ आश्रम है तो
दूसरा अमीर वृद्धाश्रम. पैसे अदाकरो ,आनंद से जिओ.
एक पापियों का दूसरा पुण्यात्माओं का.
तीसरे तरह के नरक तुल्य
बूढ़े भीख माँग अपने परिवार को भी संभालते
.कितने लूले लंगड़े ,असाध्य रोगी, कोढ़ी ,
देखा धरती में ही स्वर्ग -नरक.

Thursday, June 14, 2018

இறை சக்தி

அனைவருக்கும் காலை வணக்கம்.
இறைவனைப்போற்றுவோம் .
இயற்கையைப் போற்றுவோம்.
இன்றைய என் மன எண்ணங்கள்.

நீதி என்பது தாமதமாக ஒழிக்கப்பட்டுவருகிறது .
பண பலம் அதிகார பலம் முன் நீதி இதுவரை வரலாற்றில் வெற்றிபெற்றதில்லை. அரசன் ஆனாலும் பலதாரம் தவறு என்பதை யாரும் எதிர்க்கவில்லை.
தசரதனுக்கு மூன்று மனைவிகள் என்றே ராமாயணம் கற்பிக்கப்படுகிறது.
வைப்பாட்டி சின்னவீடு என்பது கோவலன் கண்ணகி அதை.அரண்மனை அந்தப்புர தாசிகள் ,
பீஷ்மர் வன்முறையாக இழுத்துவந்த அம்ம்பா அம்பாலிகா . ஷாஹ்ஜஹான் மாற்றான் மனைவிக்காக அவள் கணவனைக்கொன்றது ,
கிளி போன்ற மனைவி இருந்தாலும் குரங்கு போன்ற வைப்பாட்டி , சிவப்புவிளக்குப் பகுதி,
குண்டல கேசி திருடனை விரும்பி பணபலத்தால் அவனை விடுவித்து திருமணம் ,பிறகு கணவனைக் கொன்றது, கணவன் பண ஆசை இந்த வரலாறுகள்
ஏழ்மை யானவர்களுக்கு இறைவனே துணை என்பதும் நீதி கிடைக்காது என்பதும் வரலாற்றுச் சான்றுகள்.
குறைந்த மதிப்பெண் .வயது அனைத்திலும் உள்ளவர்களுக்கு இட ஒதுக்கீடு , தகுதி அற்றவர்கள் வாய்ப்பு பெறுதல் , தகுதி உள்ளவர்கள் வாய்ப்பு இழத்தல் .
இறைசக்தி மரணம் என்ற உறுதியான தண்டனை வைத்தும் மனிதர்களின் சுயநலப்போக்கு
சட்டத்திற்கு முன் அனைவரும் சமம் என்ற ஏட்டுச் சுரக்காய் நாடு முன்னேறத் தடையாக உள்ள இட ஒதுக்கீடு.
நாட்டை ஒரு இறைசக்தி ஆட்டிப்படைக்கிறது

Sunday, May 27, 2018

என் று ம் ஆனந்தமே

இறைய ரு ள்
இரு ந் தா ல்
இன்ன லு ம்
இன்பம்  ஆகு ம்.
எண்ணங்கள்
ஏற்ற மா கு ம்.
எண்ணி ய வை
எளிதில் சா த்தி ய மா கு ம்.
 ஐயம் சி றி து ம்  இல்லை.
ஆண்டவனைத் து தி த் தா ல்
ஆனந்தம் ஆனந்த மே

Wednesday, May 16, 2018

இன்றை ய என் எண்ணங்கள். आज का अपने विचार.


இன்றை ய என்  எண்ணங்கள் .
आज का अपना विचार.
கா லை  வணக்கம்.
 நா ம் மு ன் னே ற  விரு ம்பு கி  றோ ம்.
நமது  தலை  எழு த் தை  நி ர்ண யி த் தே
நம்மை  கடவுள்  படை த் து
  இரு க் கி றா ர்.
தமிழ் பழமொழி  இரண்டு  எடு த்து க் கா ட்டா க..
உயர உயரப் பறந்தா லு ம்
ஊர்க் கு ரு வி
பரு ந் தா க மு டி யா து.
ஆட்டு க்கு  வா ழ்  அளவு து  வை த்து ள் ளா ன்.
 நா ம்  மு யன்றா ல் நமது  சு ற்றத்தி ல் உயர மு டி யு ம்.
இறை வன் விதி த்தி ரு ந்தா ல்
ஹி மா லயப் பு கழ் பெற மு டி யு ம்.





प्रातःकालीन  प्रणाम. नमस्कार.
 हम आगे बढना चाहते  हैं,
हमारे भगवान ने  सिरोरेखा  खींचकर पैदा  किया है.
तमिल में दो कहावत यहाँ उल्लेख  करना चाहता  हूँ..
आट्टुक्कु वाल अळंतु  वच्चिरुक्कान.
अर्थात बकरी की पूँछ  नापकर रखा है.
 ऊर्क्कुरुवि इयर उयरप्परंतालुम
 परिंदा मुडियातु.
गौरैया कितनी ऊँचाई पर उडे,
बाज नहीं बन सकता.
 हमें कोशिश करनी है,
कम से कम अपने दायरे में ऊँचा  उड सकते हैं.
भगवान साथ देगा तो हमारे प्रयत्न का फल
अति उन्नत रहेगा. 

Tuesday, May 15, 2018

दुख का बुनियाद.

இனி ய காலை வணக்கம்.
मधुरतम प्रातःकालीन प्रणाम.
வை யகம்
படை க் கு ம்
கா க் கு ம்
வைத்தீஸ் ரா  போ ற் றி.
ஓம் கணே சா  போற்றி.
ஓம் கா ர்த்திகேயா போற்றி
ஓம் நமசிவாய  போ ற் றி.
ஓம் து ர் கை யே போற்றி.
 जग निर्माता

जग रक्षक
वैद्यनाथाय नमः

गणेशाय  नमः

ऊँ नमः शिवाय

ऊँ दुर्गायै  नमः
  जग जीवन में
  ज्योतिर्मय  स्वरूप
 जगन्नाथ  ,विश्वनाथ
जो भी हो,  उन पर दृढ विश्वास
 रखकर ईमानदारी से
बढ़नेवाला देश ही
संपन्न है.
हमारे देश में
ईश्वरानुग्रह की कमी नहीं.
पर ईश्वर के नाम से,
लूटनेवालों की कमी भी नहीं है.
लुटेरा कष्ट भोगते ही है, पर

उनका बाह्याडंबर,
लोगों को  अंधे बनाते हैं.
मिथ्या हमेशा चतुर शैतान है.
कबीर ने कहा-  सत्य पर
कोई विश्वास  नहीं रखता.
सत्य मार्ग गली गली घर घर
अपने महान सुख की महानता को
प्रचार करते ही रहते हैं. पर
दूध के गली गली घर घर
बेचकर भी दूधवाला गरीब ही रहता है.
मदिरा बेचनेवाला,
जहाँ मद्य निषेध  है, वहाँ भी कहीं छिपकर बैठता है,
लेनेवाले उसकी तलाश में जाकर खरीदा है, वह मालामाल हो जाता  है.
उसके पाप की कमाई से
रिश्वत लेनेवाला,
उस पाप   धन पर मंत्री बन.जाता है.
उस पापी के सद्यः फल के पापी के चिकनी चुपड़ी  बातों  पर भरोसा  रखनेवाले, संतों को सदुपदेश पर तनिक भी
 ध्यान नहीं देते. यही दुख का बुनियाद  बन जाता है.
उस बुनियाद  पर बनायी सुंदर मानव जीवन की
इमारत भी संकट से भरे रहते हैं.
विश्व शांति के लिए  बुद्धि मान

मनुष्यौं को समझाने के लिए
संत के उप देश गली गली होते हैं.
पर सुना कोई नहीं है. संसार  सदमा से परिपूर्ण  है.
इसीलिए  अवतार पुरुष  भी दुख सहकर ही स्वर्ग गए हैं.
माया या शैतान प्रबल है.

दुख का मूल

இனி ய காலை வணக்கம்.
मधुरतम प्रातःकालीन प्रणाम.
வை யகம்
படை க் கு ம்
கா க் கு ம்
வைத்தீஸ் ரா  போ ற் றி.
ஓம் கணே சா  போற்றி.
ஓம் கா ர்த்திகேயா போற்றி
ஓம் நமசிவாய  போ ற் றி.
ஓம் து ர் கை யே போற்றி.
 जग निर्माता

जग रक्षक
वैद्यनाथाय नमः

गणेशाय  नमः

ऊँ नमः शिवाय

ऊँ दुर्गायै  नमः
  जग जीवन में
  ज्योतिर्मय  स्वरूप
 जगन्नाथ  ,विश्वनाथ
जो भी हो,  उन पर दृढ विश्वास
 रखकर ईमानदारी से
बढ़नेवाला देश ही
संपन्न है.
हमारे देश में
ईश्वरानुग्रह की कमी नहीं.
पर ईश्वर के नाम से,
लूटनेवालों की कमी भी नहीं है.
लुटेरा कष्ट भोगते ही है, पर

उनका बाह्याडंबर,
लोगों को  अंधे बनाते हैं.
मिथ्या हमेशा चतुर शैतान है.
कबीर ने कहा-  सत्य पर
कोई विश्वास  नहीं रखता.
सत्य मार्ग गली गली घर घर
अपने महान सुख की महानता को
प्रचार करते ही रहते हैं. पर
दूध के गली गली घर घर
बेचकर भी दूधवाला गरीब ही रहता है.
मदिरा बेचनेवाला,
जहाँ मद्य निषेध  है, वहाँ भी कहीं छिपकर बैठता है,
लेनेवाले उसकी तलाश में जाकर खरीदा है, वह मालामाल हो जाता  है.
उसके पाप की कमाई से
रिश्वत लेनेवाला,
उस पाप   धन पर मंत्री बन.जाता है.
उस पापी के सद्यः फल के पापी के चिकनी चुपड़ी  बातों  पर भरोसा  रखनेवाले, संतों को सदुपदेश पर तनिक भी
 ध्यान नहीं देते. यही दुख का बुनियाद  बन जाता है.
उस बुनियाद  पर बनायी सुंदर मानव जीवन की
इमारत भी संकट से भरे रहते हैं.
विश्व शांति के लिए  बुद्धि मान

मनुष्यौं को समझाने के लिए
संत के उप देश गली गली होते हैं.
पर सुना कोई नहीं है. संसार  सदमा से परिपूर्ण  है.
इसीलिए  अवतार पुरुष  भी दुख सहकर ही स्वर्ग गए हैं.
माया या शैतान प्रबल है.