Saturday, November 4, 2017

कथानक नया ताज़ा नहीं




निरपेक्ष कवि
तटस्थ कवि
विपक्ष कवि
खुशामद कवि
हास्यकवि
दार्शनिक कवि
आधुनिक कवि
आदर्शवादी
यथार्थ वादी
आदर्शोंमुख यथार्थवादी
पलायनवादी
कितना ग्ञानविज्ञान के कवि
धार्मिक अधार्मिक कवि
भक्त कवि अश्लील कवि
छंद बद्धकवि
छंद मुक्त कवि
कितने कवि कितने विषय
कितने सदुपदेश
कितने बदुपदेश
असत्य के लिए सत्य के लिए
धर्म के लिए अधर्म के लिए
सभी के उदाहरण .
एक पत्नी हो तो राम
द्वि पत्नी के लिए विष्णु
जूठ बोल बचने, छद्मवेश में ठगने
हर बात में पौराणिक काव्य
सत्य बोलने हरिश्चंद्र.
माता पिता की सेवा के लिए श्रवण कुमार
अवैध गर्भ धारण बच्चे को फेंकने महाभारत
बलात्कार, दूसरी पत्नी का अपहरण
शासकों के अत्याचार, हत्याएँ
जवहरव्रत, यति प्रथा, न जाने
कथानक एक ही
अभिव्यक्ति में तकनीकी.
अतः कोई बात ताजी या नयी नहीं लगती.
सोचो समझो सत्य की प्रशंसा सदा एक समान.
Post a Comment