Wednesday, May 4, 2016

संस्कृत श्लोक ----சம்ஸ்க்ருத்  அறிவுரைகள்

अलसस्य कुतो विद्या , अविद्यस्य कुतो धनम् |  ---சோம்பேறிக்கு  கல்வி இல்லை; கல்வியற்றவனுக்கு  தனம் இல்லை .
अधनस्य कुतो मित्रम् , अमित्रस्य कुतः सुखम् || தனமற்றவனுக்கு நட்பில்லை ; நட்பில்லாதவனுக்கு சுகம்  இல்லை. 

संस्कृत श्लोक अर्थ सहित


Sanskrit Shlokas With Meaning in Hindi संस्कृत श्लोक अर्थ सहित

संस्कृत श्लोक

श्लोक 1 :
अलसस्य कुतो विद्या , अविद्यस्य कुतो धनम् |
अधनस्य कुतो मित्रम् , अमित्रस्य कुतः सुखम् ||
अर्थात् : आलसी को विद्या कहाँ अनपढ़ / मूर्ख को धन कहाँ निर्धन को मित्र कहाँ और अमित्र को सुख कहाँ |
———
श्लोक 2 :
आलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः |  மனிதனுக்கு மிகப்பெரிய எதிரி சோம்பேறித்தனம் .
नास्त्युद्यमसमो बन्धुः कृत्वा यं नावसीदति || சோம்பேறித்தனம்  உறவு உழைப்பு போல் உறவும்நட்பும் எதுவும்  இல்லை. உழைப்பவனுக்குத்    துன்பமே  இல்லை. 
यथा ह्येकेन चक्रेण न रथस्य गतिर्भवेत् |  =
एवं परुषकारेण विना दैवं न सिद्ध्यति ||

Post a Comment