Wednesday, March 2, 2016

ईश्वर लीला।

धन प्रधान देश।
धन का स्त्रोत न तो न बंधन ।
न दोस्ती।
मेरे बंधन तो सर्वेश्वर से।

भगवान  लेना चाहता तो
आता बाढ के  रूप| में ।
भूकंप के रूप में़

  उसकी कृपा हो तो छप्पर फाडकर
आराम से धन।
न मेहनत।
न दैड धूप।
ब्रह्मानंद मिलेगा।
सुनामी के रूप में,
दुर्घटना के रूप में।

बोली के रूप में
रोग के रूप में।
बुढापे के रूप में।
शिक्षा संस्थानों के रूप में।
रिशवत के रूप में।
चोरी डकैती के रूप में ।
शादी बंधन के रूप में।
जन्म दिन के रूप में।
इलाज के रूप में
ईश्वर के प्रायश्चित्त के रूप में।
आश्चर्य दैखिए:
देता है धीरे धीरे।
एक साथ ले लेता है।
एक दिन मैं।
बीस साल की कमाई दो दिन की शादी में।
एक -दो साल की कमाई
तेरह दिन के अंतिम संस्कार में।
कलियुग  में देखिए ,
एक महीने की कमाई
शादी की खुशी में
पिघलनेवाले भगवान।
बरफ का भगवान।
मधुशाला बच्चन जी के अनुसार
धार्मिक एकता का प्रतीक।
एक दिन की कमाई गरीबों का
एक ही दिन में।
देता है कठोर
मेहनत और छीना -झपटी  कै बाद।
लेता है एक साथ।
भगवान की लीला अद्भुत।

Post a Comment