Thursday, December 31, 2015

ईश्वर की लीला

जग में   भेद भाव  है 
आबोहवा में
मनु्ष्य मनुष्य मे
मन के विचारों में
अभिव्यक्ति की बोली में
आहार में आकार में
गर्मी. ठंड आदि में तो
समानुभव।
दया ममता संतानोत्पत्ती की भावना में
ईसाई हिंदु के संभोग में भी संतान।
मुगल  हिंदु के संभोग में भी संतान
संतान भाग्य धर्मों से परे
माया ममता दया मातृप्रेम  सम।
यह ईश्वर की लीला अद्भुत।

Post a Comment