Monday, December 16, 2013

आंडाल दक्षिण की मीरा-तिरुप्पावै -२

आंडाल दक्षिण की मीरा  -तिरुप्पावै -२
जग में जीने वाले भक्त जनों ! हम इस मार्गशीर्ष महीने के व्रत की क्रियाएं सुनिए!
क्षीर सागर में लेटे,ईश्वर नारायण की स्तुति करेंगे.
भोगिच्छा के भोजन नहीं करेंगे;
घी ,गोरस आदि नहीं ग्रहण करेंगे;
तडके नहायेंगे;फूल सर पर रखेंगे नहीं;नयनों में नहीं लगायेंगे काजल;
जिन क्रियाएं करने योग्य नहीं ,उनको करेंगे नहीं.
दान-धर्म करेंगे;भिक्षा देंगे;
मन लगाकर व्रत रखेंगे.
यों ही व्रत में मन लगायेंगे.
Post a Comment